सूखे फूलों में छिपी बचपन की यादें

आज खोली क़िताब इक मैंने जो मेरे बचपन की, सूखे फूलों को देख के खिल गईं यादें बचपन की, भूले

Read more